10 Lines On Swami Vivekananda In Hindi | Essay In Hindi

essay on swami vivekanand in hindi

आज हम स्वामी विवेकानंद जी पर हिंदी में 10 पंक्तियाँ (10 Lines on Swami Vivekananda in Hindi ) लिखेंगे। यह 10 line class 1 to12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के अनुसार लिखे गए है।

हमारे भारत देश में वैसे तो बहुत से महान महान व्यक्तियों ने जन्म लिया है, लेकिन आज हम ऐसे महानतम व्

व्यक्तित्व के बारे में लिखने वाले हैं वह हैं स्वामी विवेकानंद जी। स्वामी विवेकानंद एक ऐसे भारतीय महान व्यक्ति रहे थे जिन्होंने हमारे भारत की संस्कृति को देश विदेशों में सम्मान दिलाया, जिसमे अमेरिका जैसे अग्रणी बड़े देश भी शामिल है।

स्वामी विवेकानंद जी एक ऐसे महापुरुष रहे हैं, जिन पर हम सभी भारतवासियों को गर्व होता है ।

तो आज हम ऐसे महान व्यक्ति के बारे में 10 lines लिखने वाले है। तो आप के लिए ये रहीं 10 lines स्वामी विवेकानंद जी पर, वह भी हिंदी भाषा में । इन 10 लाइन को हम Essay के रूप में भी लिख सकते है । और आसानी से याद भी कर सकते हैं।

  बाल दिवस पर निबन्ध | Essay On children's Day In Hindi

10 Lines On Swami Vivekananda In Hindi 5 Lines On Swami Vivekananda In Hindi10 Lines On Swami Vivekananda In 5 Lines On Swami Vivekananda In hindi

10 Lines On Swami Vivekananda In Hindi

  1. स्वामी विवेकानंद जी का वास्तविक नाम नरेन्द्रनाथ विश्वनाथ दत्त था नरेन्द्रनाथ नाम उनका बचपन नाम था ।
  2. स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12/0/1863 को हुआ था, स्वामी जी जन्म Kolkata में हुआ था।
  3. स्वामी विवेकानंद के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था और यह उच्च न्यायालय में वकील थे।
  4. स्वामी विवेकानंद के जन्म दिन कोे हम राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते है।
  5. स्वामी विवेकानंद जी के गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस था।
  6. स्वामी विवेकानंद अपने जीवन में भगवान शिव के अवतार और श्री हनुमान जी उनके आदर्श थे।
  7. जब एक बार स्वामी विवेकानंद शिकागो में भाषण दे रहे थे तब उन्होंने यहां के लोगो को “मेरे अमेरिका के बहनो और भाइयो” कह कर संबोधित किया था, जिस वजह से वहां उपस्थित सभी का दिल उन्होंने जीत लिया।
  8. स्वामी विवेकानंद का एक कथन बहुत प्रचलित है वे कहा करते थे कि, उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त ना हो जाये।
  9. स्वामी विवेकानंद के गुरु ji स्वामी श्री रामकृष्ण परमहंस जी ने स्वामी विवेकानंद को दीक्षा देकर उनका नाम नरेन्द्रनाथ से स्वामी विवेकानंद रखा था।
  10. स्वामी विवेकानंद ने अपने सम्पूर्ण जीवन काल में बहुत से महान कार्य किये और अंत में 4 जुलाई 1902 को उन्होंने कोलकाता के बेलूर मठ में समाधी ले ली।
  Essay On Books in Hindi | पुस्तकों पर निबंध

5 Lines On Swami Vivekananda In Hindi

  1. स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मठ की स्थापना की और अपने गुरु रामकृष्ण जी के संदेश को आम जनता तक पहुँचने के लिए रामकृष्ण मिशन की शुरुआत की।
  2. स्वामी विवेकानंद हिन्दू धर्म को बहुत मानते थे और उन्होंने पूरे विश्व में भ्रमड़ कर हिन्दू धर्म का प्रचार प्रसार किया और दुनिया को शांति का संदेश दिया।
  3. स्वामी विवेकानंद ने 1889 में मैट्रिक (10) की परीक्षा पास की थी।स्वामी विवेकानंद केे मैट्रिक की परीक्षा उतीर्ण होने के बाद कोलकाता में जनरल असेम्बली नाम के विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया ।
  4. स्वामी विवेकानंद ने विश्वविद्यालय में इतिहास, दर्शन, साहित्य जैसे विषयो का परिपूर्ण अध्ययन किया और B.A की परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उतीर्ण हो गये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *