Essay On Book in Hindi | किताब पर निबंध

पुस्तकें हमारे जीवन में सबसे मूल्यवान वस्तुओंं में से एक है क्योंकि पुस्तकें ही वे पहलु हैं जिन से हमें ज्ञान और जानकारी प्राप्त होती हैं। वे हमें जीवन के विभिन्न स्तिथि में जीने का रास्ता सिखाती हैं और जीवन कैसे व्यापन करें उसमे भी मदद करती हैं और हमें विभिन्न घटनाओं के बारे में अवगत करती हैं ।

किताबें पढ़ने से हमारी सोचने की व निर्णय लेने की बुद्धि का विकाश करती हैं और हमारे मस्तिष्क को मजबूत करती है इसलिए अच्छे और बुद्धिमानता को प्राप्त करने के लिए हमे अपने दैनिक दिनचर्या में अच्छी पुस्तकों को सामिल करना चाइये और इनका अभ्यास करना चाहिए ।

किताबों के ज़रिए ही हम महाभारत रामायण जैसे आदि काल के बारे में अच्छे से जान पाते हैं और उसने कुछ सीखते है जो हमे हमारे जीवन मे एक अच्छा सुधार लाने के लिए काफी उपयोगी होती रही हैं।

किताबो का उपयोग आज कल से ही नही बल्कि उस समय से किया जा रहा है जब सूरदास जैसे महाकवि हुआ करते थे। इस से सिद्ध होता है कि आखिर पुस्तकें हमारे लिए एक बेहतर जीवन को उचाईयों तक कैसे ले जाया जाये ।

बाजार में अनेको प्रकार की पुस्तकें उपलब्ध हैं जैसे कि यात्रा पुस्तकें, स्व-सहायता पुस्तकें, काल्पनिक पुस्तकें, तकनीकी पुस्तकें। एक व्यक्ति अपनी जागरूकता को बढ़ाने के लिए अपनी रुचि के अनुसार पुस्तक पढ़ सकता है और पुस्तकों के साथ में अपने कुछ समय का प्रयोग कर के अमूल्यवन ज्ञान प्राप्ति कर सकता है ।

जब व्यक्ति अपनी नीरस दिनचर्या से पूरी तरह से ऊब गया होता है, और जब इससे मन को शांत करना चाहत हो तो ऐसे में किताबें आपका साथ निभाती हैं। साथ ही हमे कुछ ज्ञान की प्राप्ति भी होती हैं और हमें दुनिया के बारे में विभिन्न ऐसी बातों को जानने का मौका मिलता है। किताबें हमे एक दृढ़ और अच्छी सोच वाला व्यक्ति बनाती हैं क्योंकि हम इस दुनिया को और इंसानो को एक अलग नज़रिया से देखने वाले बन जाते हैं ।

किताबें पड़ने से हमारे विचारों का विस्तार तो होता ही है साथ ही हमे उस भाषा को अच्छे से समझने और उसके उच्चारण करने में भी काफी सुधार देखेने को मिलता है, जो अंततः समाज के साथ हमारे संचार को बढ़ाती है। हम और अधिक बुद्धिमान महसूस करने लग जाते हैं जिसके चलते हमारे आत्मविश्वास में इजाफा होता है, किताबो से तनाव भी दूर होता है । हमे किताबे ज़रूर पड़नी चाहिये।

व्यक्ति की रुचि के अनुसार कई किताबें हैं जिन्हें हम चुनाव कर म पढ़ सकते हैं कुछ लोग यात्रा से संबंधित किताबें पढ़ना पसंद करते हैं जो पूर्णत यात्रा के अनुभव और विभिन्न स्थानो की जानकारी पर आधारित होती हैं।
कुछ की रुचि प्रौद्योगिकी किताबों में होती हैं जो प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विभिन्न नई नई तकनीकी प्रगति के बारे में जानकारी देती हैं।
वही कुछ को इतिहास के बारे में जानने की रुचि होती है तो वे ऐसी किताबे पढ़ते हैं जिन में ऐतिहासिक आंदोलनों, स्थानों और युगों और काल के बारे में सम्पूर्ण लेख दिया हो। बाजार में प्रेरक पुस्तकें भी उपलब्ध हैं जो आपको ऐसी स्थिति और उनसे उबरने का रास्ता दिखाती हैं और साहस भी जगती हैं ।

अतः किताबें विभिन्न प्रकार से ज्ञान को बढ़ाने के लिए एक बड़ा स्रोत हैं और किसी व्यक्ति को अपने जीवन मे महान चीजों को सीखने में मदद करती हैं।

किताब पर निबंध, short essay on book in hindi (200 शब्द)

युगों युगों से अब तक अनगिनत किताबें लिखी और प्रकाशित की गई हैं। मनुष्य ने प्राचीन काल स हीे लिखना और पढ़ना शुरू किया और यह एक प्रथा है जो आज तक प्रचलित है ।

कई विद्वान और महान पुरुषो ने और लेखकों ने विभिन्न विषयों पर भिन्न भिन्न पुस्तकें लिखि है। जैसे काल्पनिक और गैर-काल्पनिक कथाओ पर किताबें साथ ही विज्ञान, ज्योतिष, फैशन, औषधी, सौंदर्य, जीवन शैली, इतिहास, संस्कृति, दर्शन और प्रौद्योगिकी सहित विभिन्न शैलियों पर लिखी गई हैं। इन पुस्तकों में विभिन्न विषयों के बारे में उच्चत्तम ज्ञान है और यह पाठकों को काफी पसंद भी आती हैं। किताब पढ़ने की आदत उन सभी अच्छी आदतों में से एक है, जिसे कोई व्यक्ति अपना कर आपने जीवन को सुखमय बना सकता है।

जो भी किताबें पढ़ने को अपनी आदत बना लेता है और पसंद करता है, वह कभी भी खुद अकेला या दुखी और उबा हुआ महसूस नहीं कर सकता क्योंकि किताबें हमे ज्ञान के साथ साथ साहसी बना देती हैं । किताबो में एक गुण बहुत ही अच्छा होता है कि इन्हें आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है और इन्हें किसी भी तरह की ऊर्जा की ज़रूरत नही पड़ती है। किताबें न केवल बोरियत को मारने और अकेलेपन की भावना से बचने में मदद करती हैं बल्कि ज्ञान भी प्रदान करती हैं।

एक व्यक्ति जो विभिन्न प्रकार की पुस्तकों से दिल लगा लेता है वो समाज मे एक अलग ही स्थान रखता है समाज के लोग उसे ज्ञानी के नज़रिए से देखते है और उसी के समान इज़्ज़त भी देते हैं। अतः वह व्यक्ति सांसारिक बुद्धिमान कहलाता है। वह विभिन्न स्थितियों को उन लोगों की तुलना में बेहतर ढंग से संभाल सकता है जो किताबो से दूरी बनाते हैं ।

किताबें पढ़ना आत्मविश्वास को बढ़ाता है और यह उसके व्यक्तित्व में तेज़ लाता होता है। लोग ऐसे व्यक्ति को उच्च दर्जा देते हैं जो अच्छी तरह से पढ़ा हुआ हो ।

Leave a Comment