Hindi Latter Writing For School Kids 2021 | हिंदी पत्र लेखन

Hindi Latter Writing : आज के लेख में दो पत्र लेखन किये गये हैं । दोनों ही अलग भाव प्रकट करते हैं दोनों पत्र को समझें कि किस स्तिथि में किस प्रकार से पत्र लेख किया जाएगा । यह पत्र लेखन सभी स्कूल जाने वाले विद्यार्थियों को के लिए आवश्यक है । ये हिंदी पत्र लेखन परीक्षा में हिंदी के पेपर में हर बार आता है । इस लिए ये हिन्दी व्याकरण का एक ज़रूरी part हो जाता है । आज के पत्र लेखन निम्न है –

1. मित्र या सखी को जन्मदिन का निमंत्रण पत्र

एस -4 / बी -320

पटेल नगर

दिल्ली

दिनांक -2 जनवरी , 20 …….

प्रिय विजय ,

आशा है कि तुम स्वस्थ व कुशल होंगे । तुम्हें याद तो होगा कि दस जनवरी को मेरा जन्मदिन है । इस बार भी मैं इसे मित्रों के साथ उत्साह से मनाना चाहता हूँ । उस दिन हम इंडिया गेट जाएंगे और वहीं खाना खाएँगे । साथ ही अंत्याक्षरी भी खेलेंगे । इसलिए मैं चाहता हूँ कि तुम सवेरे 10 बजे तक घर आ जाओ । बाकी बातें मिलने पर होंगी । तुम्हारा मित्र

करन

2. मित्र के दादा जी का स्वर्गवास हो जाने पर शोक – पत्र

67 , निराला नगर लखनऊ

दिनांक -25 दिसंबर 20 ……

प्रिय रितेश .

मुझे अभी – अभी रमेश का फोन आया था , जिससे पता चला कि तुम्हारे दादा जी का आकस्मिक निधन हो गया है । मैं सोच भी नहीं सकता था कि यह उनसे मिलने का अंतिम अवसर होगा । वे बहुत अच्छे इंसान थे किंतु ईश्वर की इच्छा यह सुनकर बहुत दुःख हुआ । अभी पिछले माह ही तो उनसे मिलने और उनका आशीर्वाद लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था । के आगे हम सब विवश हो जाते हैं । तम धैर्य बनाए रखना । परमपिता परमात्मा से प्रार्थना है कि वह तुम्हारे परिवार को इस दु : ख को सहने की शक्ति दे ।

शोकाकुल

विकास

इस लेख में हमने दो पत्र लेखन किये हैं। दोनों के भाव अलग अलग है। लेकिन पत्र लेखन का तरीका एक जैसा ही रहेगा ।

Leave a Comment