Latter writing in hindi | हिंदी पत्र लेखन क्लास 1 से 9

HIndi Latter Writing इस लेख में जानेगे की किसी सरकारी कार्यो के लिए या सरकारी सेवाओं का फायदा लेने के लिए सरकारी विभाग को पत्र कैसे लिखे । इस हिन्दी पत्र लेखन में आपको उदाहरण सहित समझाया गया है । ये हिंदी पत्र लेखन विद्यार्थियों के लिए भी अवयस्क हैं अकसर हिंदि की परीक्षा में latter writing आ जाती है । तब आआप नीचे दिए गए फॉर्मट में पत्र लेखन कर सकते हैं ।

परीक्षा में सफलता के लिए मित्र / सखी को बधाई – पत्र –

1809 मॉडल बस्ती

दिल्ली

दिनांक -15 मई , 20 ……..

प्रिय मित्र

प्रमोद

नमस्ते मुझे कल ही समाचार – पत्र द्वारा पता चला है कि तुम पूरे राज्य में अपनी वार्षिक परीक्षा में प्रथम स्थान पर रहे हो । तुम सदा से ही लगन और परिश्रम से अध्ययनरत रहे हो और नि : संदेह इस सफलता के पात्र हो । इस अवसर पर मैं तुम्हें बहुत – बहुत बधाई देता हूँ और ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि तुम इसी प्रकार जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करते रहो । मेरे तथा मेरे परिवार की ओर से तुम्हें पुनः बधाई । अंकल तथा आंटी को मेरा प्रणाम कहना ।

तुम्हारा मित्र

अजय

जन्मदिन पर उपहार भेजने पर मामा जी को धन्यवाद – पत्र

35 , सुभाष चौक

कानपुर

दिनांक 8 अगस्त 20 …….

आदरणीय मामा जी

सादर प्रणाम आपने मेरे जन्मदिन पर जो उपहार भेजा है , उसके लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद । मेरी बहुत दिनों से एक अच्छी घड़ी लेने की इच्छा थी और आपने यह मुझे उपहार में भेज दी । सचमुच आप बहुत अच्छे हैं , जो बिना कहे ही मेरे मन की बात जान ली । यह उपहार मुझे हमेशा आपकी यह बात याद दिलाता रहेगा कि हमें हर कार्य उचित समय पर ही करना चाहिए ।

मामी जी को चरण स्पर्श और रीना दीदी को नमस्ते ।

आपकी प्रिय भानजी

आस्ती

पिता जी से पैसे मंगवाने हेतु पत्र

विवेकानंद छात्रावास शिमला

दिनांक 15 सितंबर 20 …..

पूज्य पिता जी

सादर चरण स्पर्श आपका पत्र मुझे मिल गया है । अगले माह दशहरे की छुट्टियों में हमारे विद्यालय की ओर से एक सप्ताह के शैक्षिक भ्रमण का आयोजन किया जा रहा है । हम लोग दक्षिण भारत जाएँगे और वहाँ के दर्शनीय स्थल देखेंगे । प्रत्येक विद्यार्थी को इसके लिए 2500 रुपए 30 सितंबर तक जमा कराने हैं ।

अतः आपसे नम्र निवेदन है कि मुझे इस भ्रमण पर जाने की अनुमति प्रदान करें और मुझे पैसे भी भेज दें , जिससे मैं इन्हें समय जमा कर सकूँ ।

आपका आज्ञाकारी पुत्र

विरेंद्र

Leave a Comment