मेरा भारत देश महान पर निबंध | Mera Bharat Desh Mahan Essay In Hindi

Essay On Mera Bharat Desh Mahan पर निबंध कैसे लिखे ? मेरा भारत देश महान पर स्कूल के छात्र के लिए निबंध नीचे लिखा हुआ है जिसे आसानी से याद और लिखा जा सकता है । इस लेख का बिषय : निबंध है । हम सभी भारतीयों के लिए ये केवल एक निबंध ही नही बल्कि एक भारत देख की आत्म कथा भी है जो सभी देख के नव युवकों और बच्चों को जनने की आवश्यकता है ।

Mera Bharat Desh Mahan Essay In Hindi

प्रस्तावना– संसार में अनेक देश हैं किंतु मेरा देश भारत ही एकमात्र ऐसा देश है , जो हजारों वर्षों से विश्व में अपनी अलग पहचान बनाए हुए है । समय की आँधी ने अनेक देशों की संस्कृति को मिटा डाला किंतु यह भारत ही है , जो आज भी अपनी पुरातन संस्कृति को आधुनिक समय के साथ लेकर चल रहा है । इसकी सभ्यता केवल इसी देश में ही नहीं अपितु जापान , श्रीलंका , कंबोडिया , चीन आदि देशों में भी अपने उज्ज्वल रूप में दिखाई देती है ।

भारत के अलग – अलग नाम- भारत को अनेक नामों से जाना जाता है । इसका पुराना नाम आर्यावर्त था फिर इसे हिंद और हिंदुस्तान कहा गया । अंग्रेज आए तो उन्होंने इसे इंडिया नाम दिया किंतु आज यह विश्व में भारत के नाम से ही जाना जाता है ।

भारत का इतिहास व भूगोल – भारत की भौगोलिक स्थिति भी अपने आप में विशेष है । उत्तर में जहाँ विशाल हिमालय पर्वत इसका मुकुट बनकर सुशोभित है , वहीं दक्षिण में हिंद महासागर इसके चरण पखारता है । पूर्व में बंगाल की खाड़ी है तो पश्चिम में अरब सागर इसकी विशाल भुजाएँ हैं ।

प्राचीन काल में भारत जगद्गुरु कहलाता था और दुनिया भर के विद्वान यहाँ ज्ञान प्राप्ति और अध्ययन के लिए आते थे । किंतु कालांतर में भारतीय राजाओं के आपसी द्वेष और गलतियों के कारण भारत लंबे समय तक गुलामी की जंजीरों में जकड़ा रहा । कभी ‘ सोने की चिड़िया ‘ कहे जाने वाले भारत की प्राकृतिक धन – संपदा को विदेशी आक्रमणकारियों ने जी – भरकर लूटा और यहाँ के सीधे – सादे लोगों पर सालों राज किया । किंतु हर काली रात का एक सवेरा अवश्य होता है । गाँधी , नेहरू , सुभाषचंद्र बोस , भगत सिंह , चंद्रशेखर आजाद जैसे अनेक वीरों ने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपनी जान हथेली पर रखकर लंबा संघर्ष किया । अंतत : 15 अगस्त , 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ और यहाँ के लोगों ने आजादी की हवा में साँस ली ।

आज का भारत- आज भारत का विश्व में एक सम्मानित स्थान है । यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है , जहाँ जनता अपनी पसंद का नेता चुनती है और वही देश को चलाता है । भारत अनेकता में एकता का सबसे सुंदर उदाहरण है । यहाँ सभी धर्मों के लोग मिल – जुलकर रहते हैं और सबको समान अधिकार मिले हुए हैं । सभी धार्मिक त्योहार बड़े उत्साह से मिल – जुलकर मनाए जाते हैं । देश आज प्रगति की दौड़ में निरंतर आगे की ओर चल रहा है । अंतरिक्ष में कई उपग्रह छोड़कर भारत दुनिया के उन गिने – चुने देशों में आता है , जो इस दिशा में आगे हैं । परमाणु ऊर्जा का विकास कर लिया गया है । दुनिया के सभी महत्वपूर्ण देशों से भारत का व्यापार और सामरिक लेन – देन होता है । वैश्वीकरण लागू हो जाने से आज भारतीय युवक चीन और अमेरिका जैसे देशों के युवकों को जीवन के हर क्षेत्र में कड़ी चुनौती दे रहे हैं ।

उपसंहार- अंत में हम कह सकते हैं कि किसी देश की सच्ची पूँजी उसके निवासी होते हैं । भारत को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाते रहने की दिशा में हर नागरिक को अपना योगदान देना चाहिए । ईश्वर मेरे देश को सदा सुखी व समृद्ध बनाए रखे , यही मेरी कामना है ।

इस निबन्ध के बारे में अपनी राय और सुझाव ज़रूर दें ।

Leave a Comment