Moral stories in Hindi | लालच बुरी बला 2021 नई कहानी

इस लेख में waytosuccess की ओर से best Moral stories in Hindi का लेखन किया गया है , ये हिंदी कहानियाँ बहुत रोचक तो हैं ही साथ ही इनसे आपके बच्चो का मानसिक विकास भी होगा उन्हें इन कहानियों से कुछ जीवन की सीख मिलेगी ।ये कहानियां नैतिक शिक्षा पर आधारित हैं । ज्यादा लम्बी कहानियां नही है इनमे कुछ New moral short stories in Hindi 2021 की दी गयी है। इस लेख द्वारा सबसे अच्छी Moral stories in Hindi for kids दी गयी हैं। आज की कहानी में एक लालची व्यक्ति को कभी कुछ नही मिलता वो कैसे खुद जने –

Moral stories in Hindi : लालची भिखारी

जो आदमी दूसरों को लालची लोभी कहता है , वही अवसर मिलते ही लालच – लोभ में फँस जाता है । फिर उसका परिणाम क्या होता है नीचे कहानी में पढ़े ।

किसी नगर में एक बूढ़ा आदमी रहता था । उसका नाम था गरीबदास । अपना पेट भरने के लिए वह घर – घर घूमकर भीख माँगता था । भीख में जो कुछ मिलता था , उसी से अपना और अपनी बूढ़ी पत्नी का पेट पालता था । गरीबदास जब नगर के धनवान लोगों को ऐश करते देखता , तो प्रायः दुखी होकर सोचता था कि ये लोग इतने लोभी क्यों हैं ? इतना धन होते हुए भी हर समय और अधिक धन कमाने की चिंता में लगे रहते हैं ।

मुझ जैसे गरीब अपनी जिंदगी कैसे काट रहे हैं , इस बात की ओर इन लोगों का ज़रा भी ध्यान नहीं है और न ही परवाह है । इनके लालच का कुआँ कभी नहीं भरता । मुझे तो भगवान दस – बीस हज़ार रुपये ही कहीं से दिला दे , तो मैं कोई छोटा – मोटा रोज़गार कर लूँ और शांति से अपना जीवन बिताऊँ ।

जब वह यह सोच ही रहा था कि अचानक उसके सामने धन और वैभव की देवी लक्ष्मी वहां प्रकट हुई और भिखारी से बोली , ” बाबा ! मैं तुम्हारी दीन दशा देखकर बहुत दुखी हूँ । मैं तुम्हे कुछ सोने की मोहरें देने आयी हु देखो , मेरे पास सोने की ढेरों मुहरें हैं । तुम अपनी झोली खोलो , मैं उसे सोने से भर दूँगी देवी लक्ष्मी की बात सुनकर भिखारी का चेहरा खुशी से चमक उठा । उसने अपनी कमजोर और पुरानी झोली फैला दी ।

तब उसकी पुरानी झोली को देखकर देवी ने कहा , “ बाबा ! यदि मोहरे नीचे गिर गई , तो वह मिट्टी हो जाएगी । तुम्हारी झोली पुरानी और कमज़ोर है ज्यादा मुहरें न डलवाना , उतनी ही डलवाना जिनका बोझ यह सहन कर सके । ‘ तुरंत ” गरीबदास बोला , ” धन्यवाद देवी ! आपने यह बात बताकर बहुत ठीक किया । में इस बात का ध्यान रखूगा ।

अब आप मेरी झोली में सोने की मुहरें डालने की कृपा करें । ” देवी लक्ष्मी ने कहा , “ ठीक है । ” और इसके साथ ही सोने की चमकती मुहरें छन – छन करती गरीबदास की झोली में गिरने लगीं । थोड़ी ही देर में गरीबदास की झोली आधी भर गई ” बस बाबा ? ” गरीबदास ने प्रार्थना करते हुए कहा , ” थोड़ी – सी मुहरें और डाल दो , देवी ! अभी तो झोली आधी ही भरी है । लक्ष्मी ने फिर उसकी झोली में मुहरें डालनी शुरू कर दी ।

थोड़ी देर बाद देवी ने फिर कहा , बाबा ! अब तो काफ़ी मुहरें हो गईं । अब तो न्हें संतुष्ट हो जाना चाहिए । तुम्हारी झोली भी कमजोर है । इससे अधिक बोझ सहन नहीं होता तब गरीबदास बोला , ” जी नही देवी जी मैं बोल रहा हु न मेरी झोली में बहुत ज्यादा मुहरें आ जाएगी । झोली अभी बहुत मजबूत ही आप चिंता न करे , आप बस बेफिक्र होकर डालते जाईये । तब देवी ने कहा , ” जैसी आपकी इच्छा । ” और मुहरें छन – छन करती हुई भिखारी की झोली में गिरने लगी ।

थोड़ी देर बाद देवी फिर रुकी और को समझाते हुए कहा , ” बाबा ! अब रहने दो काफ़ी मुहरें हो गई । इनसे तुम्हारी जिंदगी आराम से बीत जाएगी । अब तुम्हें आवश्यकता नहीं होगी । गरीबदास गिड़गिड़ाते हुए बोला , “ बस थोड़ी – सी और । ” हनी बोली , “ लेकिन तुम्हें याद है न बाबा कि अगर मुहरें नीचे गिर गईं , तो मिट्टी हो जाएँगी ? ” नहीं , वे नीचे नहीं गिरेंगी । ‘ भिखारी ने कहा , ” आप बस थोड़ी – सी मुहरें और डाल दीजिए । ” देवी ने मुहरे फिर झोली में गिरानी शुरू कर दीं ।

लेकिन भिखारी बाबा की झोली काफी पुरानी साथ ही बहुत कमज़ोर थी , वह अधिक मुहरों का बोझ सहन न कर पायी । और एक झटके में और सारी मुहरें झोली फटने से धरती पर गिरकर मिट्टी में बदल गईं । गरीबदास घबराकर बोला , “ मुझे क्षमा कर दो देवी ! एक बार फिर मुझे थोड़ी सी मुहरें दे दो । ” जब कोई उत्तर नहीं मिला , तो उसने सिर ऊपर उठाकर देखा । वहाँ कोई नहीं था , देवी गायब हो चुकी थीं । और इस तरह लालची भिखारी गरीबदास निर्धन का निर्धन ही राह गया ।

Moral stories in Hindi : कहानी का उद्देश्य

इस कहानी का उद्देश्य बालकों को यह शिक्षा देना है कि लालच बुरी बला है । इससे बचना चाहिए , यद्यपि इससे बचना बहुत कठिन है । फिर भी हमें कोशिश करनी चाहिए क्योंकि यह हमें किसी परेशानी में डाल सकता है ।

Leave a Comment