नैतिक शिक्षा कहानी | Moral stories in Hindi 2021

इस लेख में waytosuccess की ओर से best Moral stories in Hindi का लेखन किया गया है , ये हिंदी कहानियाँ बहुत रोचक तो हैं ही साथ ही इनसे आपके बच्चो का मानसिक विकास भी होगा उन्हें इन कहानियों से कुछ जीवन की सीख मिलेगी ।ये कहानियां नैतिक शिक्षा पर आधारित हैं । ज्यादा लम्बी कहानियां नही है इनमे कुछ New moral short stories in Hindi 2021 की दी गयी है। इस लेख द्वारा सबसे अच्छी Moral stories in Hindi for kids दी गयी हैं। इस Moral stories में योग्यता के बारे में बताया गया है ।

Moral stories in Hindi: योग्य वर

कहानी का सार : कई बार हम मनोवांछित वस्तु की खोज में इधर – उधर भटकते रहते हैं , जबकि वह वस्तु हमारे बिलकुल निकट होती हैं , लेकिन हमारा ध्यान उस तरफ नहीं जाता । इसे ही ‘ दीये तले अंधेरा कहते हैं ।

किसी घर में चूहों का एक परिवार रहता था । उस परिवार के सदस्यों में से एक छोटी सी चुहिया भी थी । वह छोटी चुहिया अब सयानी होती जा रही थी । अब उसके माता पिता को उसके विवाह की चिंता शुरू हुई । चुहिया ने अपने माता – पिता से कहा , ” मैं अनपढ़ नहीं , अच्छी पढ़ी – लिखी हूँ , इसलिए एक अच्छे योग्य वर से ही विवाह अब माता – पिता के ऊपर एक अच्छा योग्य वर ढूँढ़ने की जिम्मेदारी आ पड़ी । वर ऐसा हो , जो चुहिया को भी पसंद आ जाए ।

वे दोनों हर समय इसी चिता में घुलने लगे । एक अच्छे योग्य वर की तलाश में वे अखबारों और कंप्यूटर पर विवाह के विज्ञापन देखने लगे । उन्होंने डॉक्टर , सोफ्टवेयर इंजीनियर आदि के सैकड़ों विज्ञापन देखे , लेकिन अपनी लाड़ली चुहिया के लिए कोई वर नहीं मिला । एक दिन बैठे – बैठे उन्हें विचार आया कि सूरज सारी दुनिया में रोशनी करता है , तो चुहिया के लिए उससे अच्छा वर कहाँ मिलेगा । चुहिया की माँ ने अपने पति से कहा , “ सूरज अपनी रोशनी से सारे जग को रोशन करता है, जात – पात के चक्कर में भी नहीं पड़ता , इसलिए सूरज से अच्छा वर कोई और हो ही नहीं सकता । ‘

तब चुहिया के माता – पिता सूरज के पास गए और सूरज से प्रार्थना की , ” हमारी बेटी सयानी हो गई है और हम उसके लिए योग्य वर खोज रहे हैं । भला आपसे अच्छा और योग्य वर हमे कहाँ मिलेगा ? कृपया हमारी प्रार्थना स्वीकार कीजिए । ” सूरज ने कहा , ” यह आपका बड़प्पन है , जो ऐसा सोचते हैं , लेकिन मैं दुनिया का सर्वश्रेष्ठ वर नहीं हो सकता, मुझसे योग्य तो बादल हैं । आपने देखा ही होगा कि जब बादल मुझ पर छा जाते हैं , तो मैं संसार में उजाला तक नहीं कर पाता हूँ । मुझसे योग्य तो बादल हुए न तो आप इस करिये कि , आप अपनी बेटी की शादी के लिए बादल के पास जाएं । ” ऐसा सुनते ही चुहिया बिटिया के चूहे माता – पिता बादल के पास पहुचे ।

बादल ने अपने घर आए मेहमानों का स्वागत किया । बादल की विनम्रता देखकर वे दोनों बहुत खुश हुए । चुहिया की माँ बोली , “ हम अपनी बेटी के लिए वर खोज रहे हैं । हमने सूरज से सुना है कि आप एक श्रेष्ठ वर हैं । कृपा करके हमारी बेटी को अपना जीवनसाथी बना लीजिए । ” बादल से बोला , ऐसी बात नही है “ मुझसे योग्य और बलवान तो पवन (air) है , वो इतने ताकतवर है कि मुझे अपने बल से उड़ाकर दूर ले जाता है । में तो यही सलाह दूँगा कि आप उसी को अपनी बेटी की शादी के लिऐ पवन भाईसाहब से बात करिये ! ऐसा सुनते ही चुहिया के माता – पिता पवन के पास जाते हैI और अपना यहां आने का कारण बताते हुए वर बनने की बात कहते हैं । तब…

उनकी बात सुनकर पवन ने भी ठीक वैसे ही कहा , “ मेरे लिए यह बहुत गौरव की बात है कि आपने मुझे अपनी बेटी के योग्य समझा । लेकिन मुझसे श्रेष्ठ तो पहाड़ है , जो मेरा रास्ता रोक लेता है । आप उसी से अपनी बेटी के विवाह की बात चलाइए । ” चुहिया के माता – पिता पहाड़ पास पहुंचे । उन्होंने पहाड़ से कहा , ” अब हमें किसी की नही सुन्नी बस आप ही हमारी प्यारी बेटी के लिए योग्य वर है । हम आपके जीवन भर आभारी रहेंगे ।आप हमारी बेटी को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लीजिये । ” पहाड़ ने बड़ी विनम्रता से उत्तर दिया , ” आप दोनों मुझे इतना सम्मान दे रहे हैं , इसके लिए मैं आपका हृदय से आभारी हूँ । लेकिन आपकी बेटी के लिए योग्य वर नहीं हूँ । मेरा यह शरीर देखने में बहुत लंबा – चौड़ा है , लेकिन एक छोटा सा चूहा इसमें छेद कर सकता है । इसलिए मुझसे योग्य वर तो आपको चूहों में ही मिल जाएगा ।

” पहाड़ की बात सुनकर चुहिया के माता – पिता बहुत खुश हुए । वे अपने मन में फूले नहीं समा रहे थे । रास्ते में वे एक – दूसरे से बात कर रहे थे , तो चूहा बोला , ” इसे कहते हैं — दीये तले अँधेरा । हमें पता ही नहीं था कि सबसे योग्य वर हमें अपने आस – पास ही इतनी आसानी से मिल जाएगा । ” कुछ दिनों बाद उन्होने एक योग्या चूहा तलाश करके अपनी प्यारी चुहिया बेटी का विवाद उसके साथ कर दिया । विवाह में पूरे शहर के चूहे को बुलाया गया । सब चूहों ने विवाह में खुब शानदार दावत उड़ाई चुहिया के माता – पिता खुश थे कि उनकी बेटी का विवाह अच्छे और योग्य वर के साथ हो रहा है ।

Leave a Comment