Moral Story In Hindi । नैतिक शिक्षा कहानी हिंदी 2021

Story In Hindi फ़ॉर किड्स : इस कहानी को पढ़ के आपको बेशक़ बहुत मज़ा आने वाला है , साथ ही एक moral story होने की वजह से इससे आपको बहुत कुछ सीखने को मिलने वाला है । साथ ही इस कहानी को आप परीक्षा में भी Story writhing के तौर पर use कर सकते हैं ।

Moral story in hindi: आशावान रहो, अर्थात हमे मुश्किलो में भी हार नही मानती चाहिये और उम्मीद बनाये रखनी चाहिये ।

कहानी का सार : कभी – कभी लोग विषम परिस्थितियों में घिरकर निराश हो जाते हैं , लेकिन कई बार वे विषम परिस्थितियाँ सुंदर अवसरों में हर जाती है । यह कहानी एक ऐसी ही घटना को चित्रित करती है ।

किसी जंगल में एक हिरनी रहती थीं । वह बच्चे को जन्म देने वाली थी । वह किसी सुरक्षित स्थान को गोज रही थी , जहाँ वह बच्चे को जन्म दे सके । वह तेज़ धार वाली नदी के किनारे चलते – चलते उस स्थान पर पहुंची , जहाँ घनी झाड़ियाँ थीं । वहीं की घास भी मुलायम थी । उसे वह स्थान सुरक्षित लगा । तभी उसे तेज़ दर्द होने लगा उसे लगा कि अब बच्चा जन्म लेने ही वाला है । उसी समय आसमान में काले – काले बादल छा गए और उनके बीच बिजली चमकने लगी ।

बिजली की चिनगारी से जंगल में आग लग गई । आग तेजी से फैलने लगी । हिरनी घबरा गई । उसने अपनी दाई और देखा । उधर एक शिकारी खड़ा था , जो उस पर तीर का निशाना लगाने की कोशिश कर रहा था । उसने घबराकर बायीं ओर दिखा । उधर एक शेर उस पर घात लगाए उसकी ओर बढ़ रहा था।

अब हिरनी करे, तो क्या करे, वह बच्चा होने के दर्द से बेचैन थी, इसलिए भाग भी नहीं सकती थी , उसे चारो तरफ आफत दिखाई पड़ रही थी, सामने जंगल की आग,पीछे तेज धार वाली नदी , एक ओर शिकारी और दूसरी ओर पल – पल – निकट आता शेर ।

तब हिरनी ने सबकी चिंता छोड़ अपना ध्यान अपने पैदा होने वाले बच्चे की ओर केंद्रित कर लिया , जो उसकी पहली प्राथमिकता थी । उसी छड ऊपर वाले ने एक कारनामा किया और बदलो से तेज़ रोशनी वाली बिजली गिरा दी जिससे बिजली की तेज़ प्रकाश से शिकारी की आँखों के सामने अँधेरा छा गया ।

इसी बीच उस शिकारी के हाथ से गलती से तीर चल गया , जो सीधा जाकर भूखे शेर को लगा । तीर लगते ही शेर वहीं ढेर हो गया । बादलों से तेज़ वर्षा होने लगी , जिससे जंगल की आग बुझ गई । इसी बीच उस हिरनी ने एक स्वस्थ शावक को जन्म दिया ।

हमारे जीवन में भी ऐसा होता है । जब हम चारों ओर से समस्याओं से घिर जाते हैं , तो हम घबरा जाते हैं । तब हमें कोई रास्ता नहीं सूझता । उस समय हमारे अंदर नकारात्मक विचार पैदा होने लगते हैं ।

तब हमें घबराना नहीं चाहिए और आशावान रहकर अपनी प्राथमिकता की ओर देखना चाहिए । जिस प्रकार हिरनी ने
अपनी प्राथमिकता बच्चे को जन्म देने पर ध्यान केंद्रित किया , जो उसके वश में था । न कि उस परशानी से बाहर

Moral Story In Hindi से मिलने वाली सीख :

मझधार में फँसने पर हमें ईश्वर को याद करना चाहिए क्योंकि वही हमारा सच्चा साथी और रखवाला है ।

Leave a Comment