विज्ञान के चमत्कार पर निबंध | Vigyan Ke Chamatkar Par Nibandh

यकीनन आज का युग विज्ञान युग है टेक्नोलॉजी का युग है, जिसका टेक्नोलॉजी का प्रयोग हम अपने दैनिक जीवन मे करते ही रहते है तो आज इसी टेक्नोलॉजी पर या कह लीजिये की विज्ञान के चमत्कार पर निबंध लिखना सीखेंगे की आखिर किस तरह एक सुंदर और आकर्षक vigyan ke chamatkar par nibandh लिखेगे । यह निबंध उन सभी स्कूल के छात्रों के लिए उपयोगी है जो class : 1 से 12 में पढ़ रहे हैं । विज्ञान के चमत्कार पर निबंध इस प्रकार है :-

बिषय : vigyan ke chamatkar par nibandh । विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

प्रस्तावना-

आधुनिक युग विज्ञान का युग है । विज्ञान का अर्थ है – विशेष ज्ञान । आज विज्ञान ने हमारे जीवन को इतना अधिक प्रभावित कर दिया है कि इसके बिना जीवन की कल्पना ही संभव नहीं है । जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आज विज्ञान के चमत्कार देखें जा सकते हैं । प्रतिदिन प्रात : काल जागने से लेकर रात्रि में सोने तक ही नहीं , वरन् सोते समय भी मनुष्य वैज्ञानिक उपलब्धियों के सुखों का उपभोग करता है । विज्ञान की देन- जब हम विभिन्न क्षेत्रों पर दृष्टि डालते हैं तो विज्ञान के चमत्कारों को देखकर आश्चर्य में पड़ जाते हैं । आइए . कुछ क्षेत्रों पर दृष्टि डालकर देखें

चिकित्सा के क्षेत्र में-

चिकित्सा क्षेत्र में विज्ञान की उपलब्धियाँ अचंभित कर देने वाली हैं । पहले जो बीमारियाँ ला – इलाज समझी जाती थीं , वे आज असाध्य नहीं रही । आज शरीर के अंगों का प्रत्यारोपण भी होने लगा है । अनेक बीमारियों को समय रहते ही पहचान लिया जाता है और उनका सफलतापूर्वक इलाज कर दिया जाता है ।

कृषि के क्षेत्र में-

आज वैज्ञानिक उपलब्धियों के कारण विश्व में कृषि – उत्पादन असाधारण गति से बढ़ा है । सारे विश्व में जनसंख्या बहुत तेजी से बढ़ी है किंतु विविध रासायनिक उर्वरकों , कीटनाशकों और उन्नत किस्म के बीजों तथा उन्नत पशु – नस्लों के कारण सारी आबादी का पेट भरने की व्यवस्था हुई है ।

परिवहन के क्षेत्र में-

परिवहन के क्षेत्र में तो विज्ञान ने बहुत ही परिवर्तन कर दिए हैं । पहले एक स्थान से दूसरे स्थान की यात्रा में काफी समय लग जाता था किंतु आज मनुष्य लंबी से लंबी दूरी की यात्रा भी कुछ ही घंटों में पूरी कर लेता है । बसों , रेलों और विमानों ने दो स्थानों के बीच की दूरी को बहुत कम कर दिया है ।

मनोरंजन के क्षेत्र में-

मनोरंजन के क्षेत्र में भी विज्ञान की उपलब्धियाँ अत्यंत महत्वपूर्ण रही हैं । टी.वी. , सिनेमा वीडियो , ऑडियो , रेडियो आदि ने मनोरंजन को सुगम और सस्ता बना दिया है । दूर देशों में होने वाले कार्यक्रमों का आनंद घर में बिस्तर पर लेटे हुए लिया जा सकता है ।

संचार के क्षेत्र में-

दूरसंचार के क्षेत्र में तो विज्ञान की उपलब्धियाँ सबसे अधिक अचंभित करने वाली रही हैं । किसने सोचा था कि एक दिन ऐसा भी आएगा , जब भारत के लगभग हर आदमी के हाथ में मोबाइल फोन होगा । संचार की सुविधा के कारण आज समस्त विश्व इतना छोटा हो गया है कि अपने प्रियजनों से सात समुद्र पार बैठे होने पर भी पलक झपकते ही बात की जा सकती है । इतना ही नहीं , इंटरनेट और वीडियो कॉल के माध्यम से अब उन्हें देखा भी जा सकता है ।

उपसंहार –

संक्षेप में कहा जा सकता है कि विज्ञान की उपलब्धियों का लाभ उठाए बिना हमारा काम नहीं चल सकता है । विज्ञान निश्चय ही मानव – जीवन के लिए वरदान है किंतु इसी विज्ञान के कारण कुछ दुष्परिणाम भी मानव जाति के सम्मुख आ रहे हैं । प्रदूषण , घातक हथियार , तापमान का बढ़ना अंधाधुंध विकास का ही परिणाम है । हमें विज्ञान को सेवक बनाना है , स्वयं उसका सेवक नहीं बनना है , अन्यथा एक दिन ऐसा भी आ सकता है कि मानव जाति ही नष्ट हो सकती है ।

Leave a Comment